Feeling shayari in hindi | फीलिंग शायरी |Cute girl shayari in hindi - All Shayari-Hindi poems,Love shayari,Hindi Quotes,shayari status

Latest

Wednesday, November 17, 2021

Feeling shayari in hindi | फीलिंग शायरी |Cute girl shayari in hindi

 Feeling shayari in hindi 

Feeling shayari in hindi
Feeling shayari in hindi


मैं इश्क को हर रोज लिखता हूं 

किसी का प्यार लिखता हूं
किसी का दर्द लिखता हूं
किसी की मर्ज लिखता हूं
हॉ हाँ हाँ मैं इश्क लिखता हूं 

इश्क और कुछ नही , एक मौत है
ये सबको आनी है
पहले सब नया फिर वही कहानी है

हम क्यों रखें किसी से मतलब
हम क्यों रखें किसी से मतलब अपना कौन है
खुद को देखो एक बार मुस्कुराओ
पता लगा अपना कौन है
feeling shayari
Feeling shayari in hindi

सब कहतें है हम मासूम हैं
तो मैं सोचूँ ये दिल जलाकर कौन जावे है
लागे कोई बार तावे है 

कितना मरोगे इश्क पर
ओ तेरा होने वाला नही है
और लब्ज मैं कहने वाला नही हूँ

आग को आग से जलाना चाहते हो
प्यारी प्यारी बातें करके मुझे बहलाना चाहते हो
ठहरो मैं निगाहों से इंसान को पढ़ लेता हूँ
ये काम मैं बखूबी कर लेता हूं 

शायरी एक पागल पन है तुम्हे करना है
थोड़ा ही सही सबको बिखरना है

यार उसने तो भरोसा का भी भरोसा तोड़ दिया
की यार उसने तो भरोसा का भी भरोसा तोड़ दिया यार उसने तो अपना कहकर छोड़ दिया 

feeling shayari in hindi
Feeling shayari in hindi

मैं बहुत मजबूत हूं
अगर तुम छोड़कर जाओ , तो जाओ
खुद को संभाल सकता हूं
ये भरम मैं भी पाल सकता हूँ 

ये जीने और मरने का सील सिला युही चलता रहेगा
हर रिश्ते में हर इन्शान ऐसे ही बदलता रहेगा
मौत से मोहब्बत हो जाएगी
जीने से तुम्हे डर सा लगेगा 

इश्क को पुकारना है  पुकारो
मेरी जान उसे जान से ना मारो

तुम्हे जाना है जाओ
हम वफ़ा संभाल लेंगे तुम दगा कर जाओ
मेरी जान किसी से तो वफ़ा कर जाओ
मेरी नही तो उसके इश्क को दिल से निभाओ 

यू तो जिंदगी आसान नही है
कदम कदम पर इम्तहान बहोत हैं
यू तो पहचान बहोत है पर सख्स अनजान बहोत हैं 

मैं भी अपने दिल को बहला लेता
किसी को तो मैं भी सता लेता
अपशोस मेरे सीने में दिल है
तो किसी का दिल मैं कैसे दुखा देता 

क्यों आती हो जाने के लिए
अगर वक्त नही रहता साथ बिताने के लिए
और मै अब हर तेरी चाल को समझता हूँ
यू बातें ना बनाया कर मुझे उलझाने के लिए
और अगर इश्क है तो थोड़ा बिश्वास भी करो
जरूरी नही हर बात पर कसम खाने के लिए
और ये सब तो पुरानी बांते हैं शाहब अब वक्त नही मिलता दिल लगाने के लिए

No comments:

Post a Comment