चमार शायरी Baba saheb ambedkar status | chamar status| chamar shayari - All Shayari-Hindi poems,Love shayari,Hindi Quotes,shayari status

Latest

Wednesday, October 6, 2021

चमार शायरी Baba saheb ambedkar status | chamar status| chamar shayari

 चमार स्टेटस - chamar shayari

Chamar shayari ,chamar status ,chamar ki shayari,chamar shayari hindi 


Chamar status

हर बिरादरी का सम्मान करता हूं
और अपनी चमार जाती से प्यार करता हूं
चमारो के गांव में आतंक इसलिए कम होता है क्योकि वहाँ दरवाजा नही लेठ मजबूत होता है

भले ही अपने जिगरी दोस्त कम हैं
पर जितने भी हैं बम हैं

तेरी अकड़ मेरी पैरो की धूल
हम चमार हैं बेटा यह मत भूल

दो हाथ से हम 50 लोंगो को नही मार सकते
पर दो हाथ जोड़कर करोड़ो लोंगो का दिल जी सकते हैं 

Chamar shayari Hindi 

हम नक्शो के मोहताज नही
अपनी राह खुद बनाते हैं
हम शेरों के सवा शेर हैं इसलिए Chamar कहलाते हैं

की तू प्यार देगी तो प्यार मिलेगा
की तू प्यार देगी तो प्यार मिलेगा एक बार नही हजार बार मिलेगा
की ये चमार जी का टोला है रानी तुम्हारा मेकअप बिगाड़ देंगे

कुत्तो की तादाद (झुंड) से शेर डरा नही करतें
और गुरु रविदास के दीवाने किसी के बाप से डरा नही करतें

16 का डोला 40 की छाती
घर मे घुस कर मारूँ अरे चमार हमारी जाती

लोग आग से कम और चमार से ज्यादा जलतें हैं ★ना दौलत पे नाज करतें हैं ना सोहरत पे नाज करतें हैं★ चमार के घर मे पैदा हुए हैं
अपनी किस्मत पे नाज करतें हैं

Chamar status 

पैसो का नही साहब
चमार होने का घमंड है
जहां मैटर बड़े होते
अरे वहां चमार खड़े होते हैं 

Chamar shayari


Paiso ka Nhi Sahab 
Chamar hone ka ghamand hai 
Jahna master bade hote hain 
Are vha chamar khade hain 

धरती तो चूहे खोदते हैं हमें To आसमान फाड़ना है
 कि धरती तो चूहे खोदते हैं हमें तो आसमान फाड़ना है ये खड़ा है तेरे सामने चमार उखाड़ ले जो उखाड़ना है

दोस्तो कर्म की भूम पर किस्मत की फुल खिलतें हैं ।
दोस्तो कर्म की भूम पर किस्मत की फुल खिलतें हैं अगर नसीब बुलन्दी पर हो ना तो चमार के घर जन्म मिलतें हैं 

★ बनी हुई Zindagi की बस इतनी सी कहानी है
की बनी हुई जिंदगी की बस इतनी सी कहानी है और  बेटा हम चमार हैं
हमपे बाबा साहब की मेहरबानी है 
Baba saheb ambedkar status

Chamaar है चमार की तरह रहने दो
की चमार है Chamar की तरह रहने दो मैं वही पुराना अंदाज लूंगा सर पर ताज और Baba Shaheb का राज होगा


No comments:

Post a Comment